फूलों की महक, न ढूंढे कांटो में जहाँ

Embrace life

कहते हैं कि संगत ने भी न सिखाया,

कांटो को महकने का सलीका,

पर महकने की चाहत कहाँ थी,

जीने का है सबका अपना ही तरीका ,

सच ये भी है के कांटे न हो तो ,

फूलो को जीने देगा ये जहाँ,

तो रहने दो महक फूलो में ही ,

व्यर्थ ही ढूंढते कांटो में हो कहाँ

Always seeking your blessings and wishes.

To read more please click here:. http://reenabistartart.wordpress.com

View original post

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s